गुरुवार, 24 दिसंबर 2009

छिनाय गयो हमरो ही नाम ,

आजु तो न्योति के बिठाई रे कन्या
हलवा पूरी औ'पान
सोई बिटेवा ,परायी अमानत ,
चैन गा सब का पलान !
*
कल ही लगाय के हल्दी पठइ हौ
मिलिगा , सो ओहिका भाग
आपुन निचिन्त हनाय लीन गंगा
बियाह दई, इहै बड़ काज !
*
एकइ दिन माँ बदल गई दुनिया
छिन गयो माय का दुलार
बियाह गयी कन्या ,
समापत भा बचपन
मूड़े पे धरि गा पहार !
*
सातहि फेरन पलट गई काया
गुमाय गई आपुन पहचान !
बिछुआ महावर तो पाँयन की बेड़ी
सेंदुर ने छीन्यो गुमान !
हमका का चाहित हमहुँ नहिं जानै ,
को जानी , हम ही हिरान !
*
आँगन में गलियन में ,
बिछड़ी सहिलियन में,
हिराइगा लड़कपन हमार
छूट गयो मइका ,
लुपत भइली कनिया,
बंद हुइगे सिगरे दुआर !
ऐही दिवारन में
उढ़के किवारन में सिमटि गो हमरो जहान !
*
रहि गई रसुइया ,
बिछौना की चादर ,
भीगी फलरियाँ औ'रातन को जागर !
अलान की पतोहिया ,
फलान की मेहरिया ,
ढिकान की मतइया ,
बची बस इहै पहिचान !
मर मर के पीढ़ी चलावन को जिम्मा .
हम पाये का का इनाम ?
छिनाय गयो हमरो ही नाम ,
मिटाय गई सारी पहचान .
*

मंगलवार, 22 दिसंबर 2009

ठेल रहे बेकार

*
दस-दस दिन पहले यहाँ दे-दे धक्का मार,
चले जा रहे बरस को,ठेल रहे बेकार !
इत्ते दिन बीते जहाँ ,सबर करो कुछ और
दिन तो पूरे करेगा बेचारा लाचार !
*
थोड़े दिन की बात है , अभी समय है शेष
अपने आप खिसक रहा ,फिर क्यों खींचो केश ,
जाते इस मेहमान की कर लो ख़ातिर और ,
हो सकता कुछ और रंग दिखला दे अवशेष !
*

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2009

बाबूजी

बिदा होत हमका सबै समुझायो रहे,ससुर जेठ सामैं मुँ ढाँकि के ही रहियो ।
ऊँची अवाज नहीं ,केहू को सुनाय न दे मंद-मंद हँसियो ,मुस्कराय रहि जइयो
देउर ननद संग हम बतियात रहे ,माथे को पल्लू खुलि पर्यो रहे पीठ पे
ऐते में दीख्यो ,ससुर जी उहाँ आय गये हाय राम पल्लो न आय रहो हाथ में
*
मेज पर्यो मेजपोस झटपट घसीटि लियो वाही से मूड़ मुँह भींचि लियो आपुनो
कापी -कितबियाँ उलटाय गई नीचे अउर स्याही की दवात हू पलटि गई का करौं
देवर चिल्लाय परो-हाय हाय भाभी, अउर हम घबराय अब होई का राम जी
चुप्पे रहे ,बोलैं का गलती हमार अउर और बाबू जी ठाड़े बड़ी मुस्किल में जान री !
*
देउर बतायो फिन बाबू चकराय गये ई का भयो देखि रहे आँखि फार-फार के
का कहैं ,तुम अइस डरी -मुँदी मूड़ डारे ऊ हँसी दबात लौटि गये कमरा में हारि के !
थोरी देर बाद 'बहू को इहाँ भेजि देओ ,डरे-सकुचे से जाय ठाड़े भे पास में
' आओ बहू , कुर्सी पे बैठि जाओ नेक इहाँ ,इंगलिस अखबार ऊ उठाय लेओ हाथ में
*
घूँघट हटाय पढि हमका सुनाय देओ आजि से तुम बात करो हमरे हू साथ मे !
तीनि बड़ी बहुअन सों आज तलक बोले नाहीं छोटी बहू की पुकार होत बात-बात में !
सुनि अखबार दीन्हें पच्चिस रुपैया ,हम उनका चरन छुइ माथे चढ़ाय लिये
विद्या के बड़े सौखीन रहे बाबूजी हम जौन लिख्यो माँगि पढ़ते सिहाय के
*
चउका में देखि ऊ सासू-माँ का टेरत थे काहे को ओहिका घुसायो रसुइया माँ
कित्तो सम्हरिये ,अभै पढ़त से आई ह्वै ,रहे देओ उहका न डारो चूल्हा चउका माँ ।
सासू चिल्लाय परीं न्हाय-धोय आई तासों अदहन में दार डारि भर को पठायो हम
तुम्हरी त्यूनार बहू बी.ए .पास आई अंगरेजी गिटपिटात इहौ बात सबै जानित हम !
*
तास खेल फ़्लश, उहै पइसन को दिवारी वारो, बाबूजी ही हमका सिखायो पास बइठ के
दैके रुपैया ऊ बोले चलो दाँव चलो ,पइसा सिखाय देगा खेल बड़े खूब से !
कायथन को घर इहाँ की चाल औरे और कोई माने न चाहे तिन्हें हिन्दुन की जात में
खिड़की दिमाग की खुली ही राखत हमेस तभै तो सदा चलत हैं टाइम के साथ में
*
तीन दिन दिवारी पे फ़्लश दिन-रात जमें ,एक डेढ़ बजे सोवैं रोज रात-रात में
नाते के देउर और ननदें जमें ही रहें बहू खेलें-बेटा खेलें ससुर जी भी साथ में
अरे हाँ ,दिवारी पे ,बोले फलान जाओ ,दुलहिन को रोसनी दिखाय लाओ जाय के
बाबू जी ,भीड़ इनको कहाँ लै जायँ हम उ हाँ बजार में ,का करिहो पठाय के
*
आये ऊ काँधे हमारे धरि हाथ बोले ,नाहीं लै जात बदमास जाने देओ वा को
काहे उदास होति कामचोर जनम को ऊ, चलो हम तुमका दिखाय चलत साथ में
आँखें दिखाय हम आपुन मनई से कह्यो तुमका का जोर परी चलत हो काहे ना
ऊ बूढ़ मनई ,उनका जाये का परी, कइस लगी बहू जाय ससुर जी के साथ मां
*
बाबूजी ,बाबू जी ,आप बिसराम करो , आप जइस कह्यो हम दिखाये लै जात हन
रोसनी ससुरारै की मन माँ समाय गई ,बाबूजी की याद सदा आवत है साथ में !
बड़े पढ़ेगुने ,खुले मन के हमार ससुर ,सासू-माँ उदार कुछ पराने खयाल की ,
तीन बहू देखि टोका-टाकी बिसारि दीन ,सारी छूट छोटी ने पाई बड़े भाग की !
*
चुपके से हमका मिठाई पकराय देतिं , कुइयाँ वाली सिदरी में खाय लेओ जाय के
सासू-माँय से तो सहिलापो निभि जात रहे ,हम जौन पूछत ऊ सबै कुछ बताय दें ,
बाबूजी की चिट्ठी में सुरूआत कइस करत रहीं हमका ई जानन को अम्माँ मन होत है
काहे से कि पोता की लार जिन टपके हमार चाह पूरी होय उन्हई को अदेस है
*
देखो तुम कहियो किसऊ से न जाय हम तुमका बताये देत आपुस की बात ही
शिरीमान प्यारे जी ,सदा इहै लिख्यो अउर नीचे आपुन के लै जनम-जनम आपकी
ब्रेड औ'जिलेबी हमका पठवाय देत जबहूँ त्यौहार करै बीच में हम आवते !
कमरा में आय आय देख जात बाबू जी पंखा बहू को कोऊ लै न ले उठाय के
*
हमका उन्हइ की याद बार- बार आवति है ससुर न कहिबे हमार बाबूजी रहैं ,
उनको लाड़-प्यार कोऊ पुन्न हौ हमार, किती किती बात याद जिउ भरि आवत हैं !

बुधवार, 18 नवंबर 2009

इत्तो बहुत बताय दियो

*
घर की पोल खोलिबे से लागति है लाज
पर भैया, तुम पूछे हो ,बताय हमका परी !
बाप-पूत दोनो बड़े हिरसू हैं चाहत हैं ,
दूजे को छोड़ करौं वाही की चाकरी !
*
देखि जलपान ऊ बिराइ मुख कहत- रहा ,
पापा को भर-पलेट इत्ता -सा हमका !
बिटिया तो ऊ सेऊ चारि हाथ आगे अहै ,
देखन में लागत हैं दोऊ छटंका-सा !
*
अपने हसबेंड जबै टूर करि आवत तब
कित्ते परकार की रसोई बना लेती हैं ,
अउर हमलोग इकल्ले रहि जात तबै
दार-रोटी राँध देति कैसे टरकौती हैं !
*
अभै कल ही तो नहाय के निकरि आई ,
कमरा में जाय पहिरौंगी साड़ी नीक से !
बाहर खड़ो पूत आँखे तरेर लाग '
माँ ली जला कपरा पहिन के आऊ थीक छे !
*
बित्ता भर छोरा बनियान भर पहिने खड़ो
टोक रह्यो कइस मैं जोर से हँसी बड़ी !
मार खिसियाय जोर-जोर रोये लाग ,
और अपने सपूत की बात जब पता पड़ी !
*
नेकर तो पहिन, काहे परेसान होत यार ,
रोना बेकार तेरी बात कहाँ आती हौ !
बेटा निचिन्त जाय बहनी के संग खेल ,
तेरी माय देखिबे को हौं ही इहाँ काफ़ी हौं !
*
बस अब ढक्कन दै कटुरदान रख देत ,
आगे कुछु बोलन -बतान काहे को करी !
अरे मोर भैया ,इत्तो बहुत बताय दियो
घर-घर की बात ई तो सबै जानबे करी !
*

सोमवार, 16 नवंबर 2009

चुप्प रहि लेत हौं !

बिटवा को माय ने बिगारि दियो कइस
दुइ बच्चन को बाप ह्वै छटूलो बनो जात है !
का कहै मरद जात कहै खिसियाय जात ,
आपुनी जो बात होय मिरची लगि जात है !
*
पेट नाहीं भरत तो कहूँ मन कहाँ ते लगे
भइया के बुलाये जबै मैके चली जात है ,
देख लेओ ढंग हम अभै दिखलाय देत
अम्माँ के सामैं और सिर चढ़ि जात हैं
*
मारे जल्दी के गरम चाय में मूँ डाल दियो
सासू देख लीन मुस्काति है बहुरिया
कइस चाय दई वाको मुँहै मार जरौ जाय ,
पलेट में उँडेल ठंडाय दे बहुरिया !
*
पियाला की चहा तो पलेट में उँडेल दई ,
भागि आई उहाँ ते तुरंत सासु यू न कहें ,
फूँक मार-मार के पियाय दे बहुरिया !

हमको तो दफ़तर जाये का देर होइ जाई ,
अभै तो नहाय का है .काहे ना नहात हो ?
काहे से कि गमछा किसउ ने कहूँ डारि दियो ,
तुरत ना पोंछे हमका ठंडी लगि जात हौ !

गमछा तो लाय के थमाय दीजो बाद में
पहिल ताता पानी पहुँचाय दे बहुरिया ।
*
गमछा थमाय भागि आई कहूँ कहि न दें ,
साबुन लगाय अन्हबाय दे बहुरिया ।

बड़ी देर लागि तहाँ झांकेउ न कहें न कहूँ
उहका तेल-बुकवा लगाय दे बहुरिया !
एतन में कान सुन्यो हमरी बुस्सट्ट कहाँ
दौरि घबराय धरि दीन्ह और भागि आये

कहूँ सास बोलि उठें हमका तो जोर परी
बटन खोलि वाको पहिराय दे बहुरिया !
*
थारी खाना दियो आपै खालिंगे बैठि
हम तो दूर बैठि के अगोरत रसुइया ,
दार में नोन थोरो फीको है ,हम लाय दियो
दारि देउ नेक तुहै हमरी कटुरिया
हम समुझायो हमका कइस अंजाद परी
या को सबाद तुम्हें आपुनो हिसाब करि
*
एतन में सासु माय बोलि परी काहे नाहिं
नेक नोन डरि के मिलाय दे बहुरिया !
चुटकी भर नोन डारि भागि आये झट्ट सानी
उनको का ठिकानो कहै  मो ही सो कहें लाग
कौर कौर करके खबाय दे बहुरिया !
*
मर्दुअन के संगे सनीमा देखि आये जौन
मोर पूत हाय मार कैसो थकाइ गा ,
आँखिन में नींद भरी कैसी झुकाय रहीं .
जाके तू बिछौना बिछाय दे बहुरिया !
चट्ट पट्ट भागि आई सासु माँ इहै न कहैं
लोरी गाय-गाय के सुबाय दे बहुरिया
*
ई लिख ततैया केर छत्ता में हाथ दियो
देखि लीजो दौरि-दौरि आय डंक मरिहैं
बिलैया के जैसे खिसियाय नोचें खंबन का,
लरिकन का जत्था खौखियाय दौरि परिहै ,

लिखि कै धर्यो है ,दिखावन की हिम्मत नाहिं,
जाही से परकासन की गुस्ताखी नाहीं करिहौं
केहू के चिढ़ाबो नाहीं ,थोरो सो विनोदभाव
नाहीं आच्छेप मैं साखी दै कहत हौं
*
काटन को दौरि जनि परे इहां पुरुस वृंद
तासे पहिले ही हौं तो माफ़ी मांगि लैत हों !
लंबी है गाथा सासु-माँ तुम्हार पुत्तर की
आगे कबहुँ कहिवे आज चुप्पै रहि लेत हौं !
*

गुरुवार, 12 नवंबर 2009

लोक-रंग -

मुँह टेढा लिये खिड़की पे आ गया ,
मेरे कमरे में चाँद लगा झाँकने !
*
भोर बोला था कागा अटारी पे ,
दूध उबला था चूल्हे की मुँहाड़ी पे ,
मैंने सोचा ये,मैं ही भरमा गई ,
एक बादल सा दिख गया पहाड़ी पे !
फूल बगिया में हँसी गुल बकावली ,
और बेला महक गया रात में !
*
पिया पिया बोल गया क्या पपीहरा ,
जिया कैसी वियाकुल विथा घिरा ,
आँख देख रही दूर कहीं जाने क्या ,
कहीं विरही की बाँसुरी ने सुर भरा !
राग भीतर कचोट सी जगा गया ,
चार बूँदें छलक आईं आँख में !
*
फिर खटकी थी कुंडी दुआरे की ,
और बत्ती जली ओसारे की !
सेत केसन में लाली सिन्दूर की ,
बिंदिया माथे अठन्निया अकार की ,
सास दे रहीं 'असीस पूत चिर जियो ',
मूछोंवाले ससुर जी भी साथ में !
*
पास आ रही लो, चलने की आहटें ।
और पास ,और पास, और पास हो !
रात जादू बिखेर रही सामने ,
आधे आंगन की चाँदनी उजास हो !
आँख मूंदे पड़ी मैं चुपचाप ही,
बैरी कँगना खनक गया हाथ में !

बुधवार, 4 नवंबर 2009

नचारी -ओ,नटवर

दुनिया के देव सब देवत हैं माँगन पे ,
और तुम अनोखे ,खुदै मँगिता बनि जात हो !
अपने सबै धरम-करम हमका समर्पि देओ ,
गीता में गाय कहत, नेकु ना लजात हो !
*
वाह ,वासुदेव ,सब लै के जो भाजि गये,
कहाँ तुम्हे खोजि के वसूल करि पायेंगे !
एक तो उइसेई हमार नाहीं कुच्छौ बस ,
तुम्हरी सुनै तो बिल्कुलै ही लुट जायेंगे!
*
अरे ओ नटवर ,अब कितै रूप धारिहो तुम ,
कैसी मति दीन्हीं महाभारत रचाय दियो !
जीवन और मिर्त्यु जइस धारा के किनारे खड़े,
आपु तो रहे थिर ,सबै का बहाय दियो !
*
तुम्हरे ही प्रेरे, निरमाये तिहारे ही ,
हम तो पकरि लीन्हों तुम छूटि कितै जाओगे !
लागत हो भोरे ,तोरी माया को जवाब नहीं,
नेकु मुस्काय चुटकी में बेच खाओगे !
*
एक बेर हँसि के निहारो जो हमेऊ तनि ,
हम तो बिन पूछे बिन मोल बिकि जायेंगे !
काहे से बात को घुमाय अरुझाय रहे ,
तू जो पुकारे पाँ पयादे दौरि आयेंगे !

बुधवार, 28 अक्तूबर 2009

का कर लेई काजी

मोहे टी.वी. मँगाय दे मैं टिविया पे राजी !
जा पै होइ रँगवारो टीवी करौं ओही से सादी !
*
काला और सुपेद न भावै ,टीवी बस रंगवारो ,
बिना रँगन को मजा न आवे तुमहू नेक विचारो !
छैल-छबीली फर्वट छोरी दो करवाय मुनादी
*
मरद चलेगा लंबा-नाटा काला-गोरा कोई,
मोटा पातर,मूँछ-निमूछा फरक पड़े ना कोई !
दिन भर बाहर रहै मरद ,रौनक टीवी से हाँ ,जी !
*
बंदर जैसा हो कोई , जा की महरारू सुन्दर ,
हर देखैवाले के हिय मां हूक उठै रह रह कर !
सरत लगा ले कोई चाहे ,हौं ही जितिहौं बाजी !
*
पढ़ी-लिखी तो नहीं खास पर समझूँ ढाई आखर ,
उइसे ही सब कहें सयानी ,का होई पोथी पढ़
ज्यादा पढी-लिखी छोरी तो लगे सभी की दादी !
*
जइस खुदा जी खुदै देत सक्कर खोरेन का सक्कर ,
हमरा भी हुइ जाई कलर टीवी वाले सों चक्कर
टी.वी.वाला राजी तो फिन का कर लेई काजी !

चंदन के फूल

*
चँदन केर बिरवा मइया तोरे अँगना
कइस होई चँदन क फूल !
*
कनिया रहिल माई बाबा से कहलीं ,
लेइ चलो मइया के दुआर !
केतिक बरस बीति गइले निहारे बिन
दरसन न भइले एक बार !
हार बनाइल मइया तोहे सिंगारिल ,
चुनि-चुनि सुबरन फूल !
*
जइहौ हो बिटिया, बन के सुहागिनि ,
ऐतो न खरच हमार ,
आपुनोई घर होइल आपुन मन केर
होइल सबै तेवहार !
बियाह गइल , परबस भइ गइले हम ,
रे माई तू जनि भूल !
*
ना मोर पाइ धरिल एतन बल ,
ना हम भइले पाँखी !
कइस आइल एतन दूरी हो
कइस जुड़ाइल आँखी !
कोस कोस छाइल गमक महमही ,
पाएल न चँदन क फूल !
*
आपुनपो लै लीन्हेल गिरस्थी
अब मन कइस सबूरी !
चँदन फूल धरि चरन परस की -
जनि रह आस अधूरी !
विरवा चँदन ,गाछ बन गइला
मइया अरज कबूल !
*

माँ री, बुला एक बार

फिर से उसी घर में थोड़ा थोड़ा-सा रह लूँ माँ री, बुला एक बार !
*
ससुरे के आँगन में पड़ने लगेीजब से सावन की बदरी की छाया,
कुंडी दुआरे की खटके जरा ,यों लगे कोई मैके से आया !
पग को तो बिछुये महावर नें बाँधा ,सासुर की देहरी पहाड़ !
*
काहे को बिटिया जनम दिये मइया,क्यों सात फेरों में बाँधा
इतनी अरज मेरी सुन लीजो बीरन टूटे न मइके का धागा !
भौजी मैं चाहूँ न सोना ,न चाँदी ,तुम्हरा तिनक भर दुलार !
*
निमिया के झूले से नीचे उतारी छिनी सारी बचपन की सखियाँ ,
ऐसा न कोई दिखे जिससे कह पाऊं खुल के मैं सुख-दुख की बतियाँ !
ननदी करे अपने भइया को रोचना मन को सकूँ ना सम्हार !
*
होकर परायी, नयन नीर भर, पार कर आई निबहुर डगरिया
तूने भी भैया पलट के न देखी कैसी बहन की नगरिया !
काहे को बाबुल सरगवास कीन्हा ,छोड़ी धिया बीच धार !
माँ री, बुला एक बार .... !

ससुरारै में निदिया सताये रे

ससुरारै में निदिया सताये रे ,
जी भर के कबहुँ ना सोय पाय रे
मोरी अक्कल चरै का चलि जात हौ,
ससुरारै में बावरी सी हुइ गई !
*
सैंया बोले गैया को चारा डालना ,
मैं भइया सुन्यो निंदिया की झोंक में ,
छोटे देउर को नाँद में बिठा दियो ,
और आय के बिछावन पे सोय गई !
*
बहू बछिया गुवाले को सौंप दे ,
मैं बिटिया सुन्यो निंदिया की झोंक में ,
तो ननदिया को पहना-उढ़ाय के ,
आपने कंठ से लगाय मिल-भेंट ली ,
और जाय के गुवाले को दे दिहिन !
फिर आय के बिछावन पे सोय गई !
*
मैरी दवा की पुड़िया बहू लाय दे,
हवा-गुड़िया सुन्यो नींद के खुमार में !
लाई रबड़ की बबुइया ढूँढ खोज के ,
आगे बढ़ के ससुर जी पे उछाल दी,
और आय के बिछावन पे सोय गई !
*
पहने कपड़े बरैठिन के दै दियो ,
कह दीजो हिसाब पूरो हुइ गयो!
गहने कपड़े सुन्यो मैं आधी नींद में ,
उनके बक्से से जेवर निकाल लै,
और जोड़े धराऊ में लपेट के
धुबिनिया को पुटलिया पकड़ाय दी
और लेट के बिछावन पे सोय गई !
*
हँडिया दूध की अँगीठी पे चढ़ाय दे ,
थोड़ो ईंधन दै के आँच भी बढ़ाय दे ,
चार मुट्ठी भर झोंक दियो कोयला ,
हाँडी गोरस की धरी वापे ढाँक के
और आ के बिछावन पे सोय गई !
*
जाने कैसे मैं लेटी औंघाय गई ,
दूध उबल-उबल सारा जराय गा ,
सारा हाँडी का रंग करियाय गा !
मैंने टंकी में चुपके डुबाय दी ,
और जाके बिछावन पे सोय गई !
*
मारे नींद के कुछू न समझ आय रे ,
ससुरारै मे बावली सी होय रई !
*

छिंगुनिया के छल्ला

*
छिंगुनिया के छल्ला पे तोहि का नचइबे ,
नथुनियाँ न झुलनी न मुँदरी जुड़ी ,
आयो लै के कनैठी अंगुरिया को छल्ला !
इहै छोट छल्ला पे ढपली बजइबे !
*
कितै दिन नचइबे ,गबइबे ,खिजइबे
कसर सब निकार लेई ,फिन मोर लल्ला
कबहुँ गोरिया तोर पल्ला न छोड़ब ,
चिपक रहिबे बनिके तोरा पुछल्ला !
करइ ले अपुन मनमानी कुछू दिन
उहै छोट लल्ला तुही का नचइबे !
*
भये साँझ आवै दुहू हाथ खाली
जिलेबी के दोना न चाटन के पत्ता ,
मेला में सैकल से जावत इकल्ला ,
सनीमा के नामै दिखावे सिंगट्टा !
हमहूँ चली जाब देउर के संगै
उहै ऊँच चक्कर पे झूला झुलइबे !
*
काहे मुँहै तू लगावत सबन का
लगावत हैं चक्कर ऊ लरिका निठल्ला !
उहाँ गाँव माँ घूँघटा काढ रहितिउ ,
इहाँ तू दिखावत सबै मूड़ खुल्ला !
न केहू का हम ई घरै माँ घुसै देब ,
चपड़-चूँ करे तौन मइके पठइबे !
*
लरिकन को किरकट दुआरे मचत ,
मोर मुँगरी का रोजै बनावत है बल्ला ,
इहाँ देउरन की न कौनो कमी
मोय भौजी बुलावत ई सारा मोहल्ला !
छप्पन छूरी इन छुकरियन में छुट्टा
तुहै छोड़, कहि देत, मइके न जइबे !
*
मचावत है काहे से बेबात हल्ला ,
अगिल बेर तोहका चुनरिया बनइबे ,
पड़ी जौन लौंडे-लपाड़न के चक्कर
दुहू गोड़ तोड़ब घरै माँ बिठइबे !
छिंगुनियाके छल्ला पे ...!
*

बुधवार, 21 अक्तूबर 2009

गंगा-जमुना

नैहर की सुधि अइसी उमडल हिया माँ ब्याकुल उठे हिलकोर ,
आगिल क मारग बिसरली रे गंगा घूम गइलीं मइके की ओर !
*
बेटी को खींचे रे मइया का आँचल टेरे बबा का दुलार ,
पावन भइल थल ,पुन्यन भरी भइली उत्तरवाहिनी धार* !
जहि के अँगनवा में बचपन बिताइन बाँहन के पलना में झूलीं
तरसे नयन,जुग बीते न देखिन, जाइत बहत चुप अकेली !
*
केतन नगर , वन ,पथ कइले मिली ना बिछुडी सहिलियाँ,
मारग अजाना बही जात गंगिया अकेली न भइया- बहिनियाँ !
कौनों दिसा बहि गइली मोरी जमुना,कैसी उठी रे मरोर !
मइया हिरानी रे ,बाबा हिराने जाइल परइ कौने ठौर !
*
ब्रज रज रचे तन, श्याम मन धरे मगन , देखिल जमुन प्रवाह,
दूरइ ते देखिल जुडाय गइली गंगा,अंतर माँ उमडिल उछाह !
जनम की बिछुडी बहिनी मिलन भेल , झलझल नयन लीने मूँद,
पलकन से बहबह झर- झर गिरे, रुक पाये न अँसुआ के बूंद !
*
व्याकुल ,हिलोरत दुहू जन लिपटीं उमडिल परेम परवाह,
दूनों ही बहिनी भुजा भर भेंटिल,तीरथ भइल परयाग !
दोनो के अँसुआ बहल गंगा-जमुना,इक दूजे में मिल हिरानी ,
धारा में धारा समाइल रे अइसे ,फिर ना कबहुँ बिलगानी !
*
लहरें- लहर सामर संग उज्जल गंगा-जमुन का मिलाप
अइसी मिलीं कबहूँ ना बिछुडलीं सीतल भइल तन ताप !
हिय माँ उमड नेह ,कंपित भइल देह गंगा भईं गंभीर
चल री सखी,मोर बहिनी चलिय जहँ सागर भइल सरीर !
(* गंगा का प्रवाह जब उत्तरगामी होता है तो उसका महत्व बहुत बढ़ जाता है ।)

नचारी - गौरा का सुहाग

गौरा का सुहाग -
नैना भरे माई दिहिले , सुहाग भर भर हंडा ,
एतन सुहाग गौरा पाइन धूम भइल तिहुँ खण्डा !
मारग में सगरी मेहरियाँ दौरि आवन लगलीं ,
गौरा के चरनन लगलीं सुहाग पावन लगलीं !ओ

खेतन ते भागी, पनघट ते भगि आई ,घाटन से दउरी धुबिनियाँ ,
गोरस बहिल ,ऐसी लुढकी मटकिया तौ हूँ न रुकली गुजरिया ,
दौरी भडभूजी ,मालिन ,कुम्हारिन , बढनी को फेंक कामवारी
गौरा लुटाइन सुहाग दोउ हाथन ,लूटेल जगत के नारी ।
ऊँची अटारिन खबर भइली , पहरे -ओढे लागीं घरनियाँ ,
करिके सिंगार घर आंगन अगोरे तक बचली फकत एक हँडिया ।
चुटकि-चुटकि गौरा उनहिन को दिहला ,एतना रे भाग तुम्हारा ,
दौरि दौरि , लूटि लूटि लै गईं लुगइयां ,जिनके सिंगार न पटारा !
एही चुटकिया जनम भर अगोरो ,मँहगा सुहाग का सिंदुरवा ,
तन मन में पूरो, अइसल सँवारो रंग जाये सारी उमरिया !

भुरजी ,कुम्हरिन से जाँचित चुटकि भर, कन्या सुहाग भाग मांगे ,
गौरा की किरपा भइल कमहारिन पे जिन केर सुहाग नित जागे !

गौरा का सेंदुर अजर अमर भइला ,उन जैसी कौ बडभागिन रे ,
इनही से पाये सुहाग, सुख, दूध, पूत ,तीनिउँ जगत की वासिन रे ।

नचारी - गौरा की बिदाई

तोरा दुलहा जगत से निराला उमा , मैना कहिलीं,
कुल ना कुटुम्व ,मैया बाबा,हम अब लौं चुप रहिलीं !
सिगरी बरात टिकी पुर में बियाही जब से गौरा ,
रीत व्योहार न जाने भुलाना कोहबर*में दुलहा !
भूत औ परेत बराती ,सबहिन का अचरज होइला ,
भोजन पचास मन चाबैं तओ भूखेइ रहिला !
ससुरे में रहिला जमाई, बसन तन ना पहिरे !
अद्भुत उमा सारे लच्छन , तू कइस पतियानी रे !
रीत गइला पूरा खजाना कहाँ से खरचें बहिना !
मास बरस दिन बीते कि ,कब लौं परिल सहना !
पारवती सुनि सकुची ,संभु से बोलिल बा -
बरस बीत गइले हर, बिदा ना करबाइल का ?
सारी जमात टिक गइली, सरम कुछू लागत ना !
सँगै बरातिन जमाई ,हँसत बहिनी ,जीजा !
हँसे संभु ,चलु गौरा बिदा लै आवहु ना ,
सिगरी बरात, भाँग, डमरू समेट अब, जाइत बा !
गौरा चली ससुरारै ,माई ते लिपटानी रे
केले के पातन लपेटी बिदा कर दीनी रे !
फूल-पात ओढ़िल भवानी लपेटे शिव बाघंबर ,
अद्भुत - अनूपम जोड़ी, चढ़े चलि बसहा पर !
(* कोहबर - नवदंपति का क्रीड़ागृह जहाँ हास-परिहास के
बीच कन्या और जमाई से नेगचार करवाये जाते हैं )

नचारी - नोक -झोंक

'पति खा के धतूरा ,पी के भंगा ,भीख माँगो रहो अधनंगा ,
ऊपर से मचाये हुडदंगा , ये सिरचढी गंगा !'
फुलाये मुँह पारवती !
*
'मेरे ससुरे से सँभली न गंगा ,मनमानी है विकट तरंगा ,
मेरी साली है, तेरी ही बहिना ,देख कहनी -अकहनी मत कहना !
समुन्दर को दे आऊँगा !'
*
'रहे भूत पिशाचन संगा ,तन चढा भसम का रंगा ,
और ऊपर लपेटे भुजंगा ,फिरे है ज्यों मलंगा !'
सोच में है पारवती !
*
'तू माँस सुरा से राजी ,मेरे भोजन पे कोप करे देवी .
मैंने भसम किया था अनंगा ,पर धार लिया तुझे अंगा !
शंका न कर पारवती !'
*
'जग पलता पा मेरी भिक्षा ,मैं तो योगी हूँ ,कोई ना इच्छा ,
ये भूत औट परेत कहाँ जायें ,सारी धरती को इनसे बचाये ,
भसम गति देही की !
*
बस तू ही है मेरी भवानी ,तू ही तन में में औ' मन में समानी ,
फिर काहे को भुलानी भरम में ,सारी सृष्टि है तेरी शरण में !
कुढ़े काहे को पारवती !'
*
'मैं तो जनम-जनम शिव तेरी ,और कोई भी साध नहीं मेरी !
जो है जगती का तारनहारा , पार कैसे मैं पाऊँ तुम्हारा !'
मगन हुई पारवती !
*

मंगलवार, 20 अक्तूबर 2009

मेरी जोत ना धुँधुआय !

पीछे छूटि गई सारी भीर-भार !
अब तो उतरि गो सैलाब ,
जी में काहे की हरास ,
लै जात नहीं केऊ का उधार !
*
सँवारि दये बच्चा,
निभाइ दियो कुनबा ,
अब बार फँसे चाँदी के तार !
*
झेली छाँह-धूप सारी ,
राह पूरी करि डारी ,
थोरो बच्यो सो भी होय जाई पार !
*
सही लागे सोई करिबे ,
आपुन सिर उठाय जीबै !
केऊ और से लगइबे ना गुहार !
*
मोरे आपुने हैं सारे
कोई बूढ़ कोई बारे ,
बाँट लेई सारो दुख सुख सबार !
*
जौ लौं जियैये राम ,
खाली बैठिबो हराम,
ना केऊ की दया की दरकार !
*
दीन नाहीं हुइबे ,
मलीन नाहीं हुइबे ,
कुछु जादा नहीं चाहिबो हमार !
*
कोऊ पछितावा नहीं ,
अँसुअन की भाखा नहीं,
विरथा नाहीं गयो जीवन हमार !
*
आपुन पावनो लै लीन्हों,
हुइ पायो सो कर दीन्हो !
अब तो सामने ही होई लिखवार !
*
मोरी जोत ना धुँधुआय,
पूरी भभके औ बुझि जाय !
प्रभु से ऐही बस विनती हमार
*

रविवार, 18 अक्तूबर 2009

बलम सिसकी दै-दै रोवैं !

*
सावन की तीजन को
भइया लिवाय गयो ,
धनि चली गइली प्योसार !
बलम सिसकी दै-दै रोवैं !
*
गद्दन पे लोटैं, दुलयइन सों लिपटें ,
तकियन पे मूड़ दै-दै मारैं !
रात भई, सँवरी न सेजिया ,
घिरे बदरा अँधियारे !
बापुरो मनई कइस सोवैं !
बलम सिसकी दै-दै रोवैं !
*
सावन महीना तो दुसमन हमायो,
गरजै बरसिबे का इहै ठौर पायो !
आयो जो भैया चली गई उतावल
सारो(साला) भा बैरी हमार !
बलम सिसकी दै-दै रोवैं !
*
काटन को दउरे रसुइया की देहरी ,
चहा क पियाला देखतई जूड़ी (बुख़ार),
खावे न पीवै ,करै का बिचारो ,
अब को सँभारनहार !
बलम सिसकी दै-दै रोवैं !
*
बेलन हू नाचे जो हाथ लेइ जुइया,
चुरियन के राग नचै रोटी की लुइया !
हालै न डोले ,,दिखाइ जोर हारि गये ,
चिपक्यो अँगुरियन पे मार !
बलम सिसकी दै-दै रोवैं !
*
मूड़े डारि लीनों वाकी चूनर को अँचरा ,
खनखन बजावैं वाकी चुरियन की झलरा ,
बस में न आव एक आटे को लोंदा
जरि गई, पानी बिनु दार(दाल) !
बलम सिसकी दै-दै रोवैं !
*
अईना पे माथे की बेंदी लगाय गई ,
सीसा के कौंधा में सूरत छिपाय गई !
आपुन मुखौटा गुमाय गयो, सूझै ना ,
उहै दीख जात बार - बार !
बलम सिसकी दै-दै रोवैं !

भइया-दूज!

मोरे बीरन का उज्जल माथा ,
रोली का टीका ,अक्षत का आँका !
मुख में धऱूँगी मोहन-मिठाई ,
आई रे, भइयादूज !
*
आरति कर ,ओहिका मुखड़ा निहारूँ ,
मुतियन की मुट्ठी भर-भऱ वारूँ !
जब देखूँ हँसता ही पाऊँ ,
सुख कितना मत पूछ !
*
लाख बरिस जीवै मोरा भइया !
मैं तो चाहूँ बस प्यार की छइयाँ
तेरा सुजस जग करे उजागर ,
मैं तेरे अँगना की दूब !
*

काँवरिया

सावन महीना बम्भोले को हिये धारि
त्यागि गृह साधु-भेस धारै है कँवरिया !
*
फूलन-बसन सों रुच-रुच सजी निहारि
ग्राम-जुवती बढ़ि आई राह कोर पे ,
काँवर की सोभा निहारि रही नैनन सों,
भइया रे ,इहां तुम आये हो कौन छोर से ?
कइस जतन से सजाई ओहार डारि
मोर मन देखि के जुड़ात, रे कँवरिया !
*
काँवर में भरि जल लाये लाये कौन तीरथ को ,
काहे ते ओहिका धरा ते ना छुआत हौ ?
दूर-पार देस ,भार काँवर को .काँधे लै ,
मारग अगम पाँ पयादे चले जात हौ !
और बात पीछे, पहले इहै बताय देहु
आये कहाँ ते कहाँ जात हो कँवरिया !1
*
जीवन- जलधार अथाह आदि-अंत नाय
काँवर में नीर हौं तहां से लै जात हौं
सीतल विमल ताही स्रोत को प्रवाह ,
लै जाय के दिगंबर भूतनाथ को चढ़ात हौं !
धरती की रज छुये राजस न होइ जाय
सुद्ध सतभाव को चढ़ावत कँवरिया !
*
मन की उमंगा लिये गंगा की तरंगा !
आपुन लघु पात्र जित समायो भरि लायो हूं !
कामना न मोरी कछु भावना चलाय रही
जाया धाम पूत नात सबै बिसारि आयो हूँ
राग-द्वेस ,मोह-मान भूलि के विराग धारि
जीवन के पुन्य-राग लीन है कँवरिया
*
कुछू बिलमाय लेहु चौतरा पे बैठि ,नेक
राम की रसोई को परसाद पाय लेहु रे ,
नीम की बयार में जुड़ाय लेहु स्रमित देह
धूप बरसात की तपाय कष्ट देत रे !
उत्तर की ओर मुड़ि जात वृत्ति जीवन की
देह धरे तीरथ लखात है कँवरिया !
*
भाव-लीन मानस में भूख-प्यास ,सीत-ताप ,
व्यापत न ,सींचति है भावना फुहार-सी !
माई री ,ममता में मन को न बोर ई है
तप की विराग भरी बेला त्योहार सी ,
एक व्रत है सो निभाइ के रहौंगो ताहि
सुविधा के हाथ ना बिकाइ हैं कँवरिया !
*
देह-भान भूलि भाव-लीन मन धारि व्रत
जात्रा में ऐते दिन परम सुख पायो रे !
कुछू नायँ चाहै बे रहत समाधिलीन ,
प्रकटन कृतज्ञता को आपुनो उपायो रे
पुन्य-थल भक्ति -जल परम पुनीत भरे
सत्य ही कृतार्थ हुई जात है कँवरिया !
*
इतै दिन मन साधि रहौं साधु निहचय करि ,
फिर तो गृहस्थ हूँ जगत को निभाइहौं ,
व्रत को सत-भाव आसुतोस को प्रभाव
धारि मानस की वृत्तिन को निरमल बनाइहौं
माई , आनन्द-नीर मानस पखारन को
पाप-ताप-साप हू नसाये, रे कँवरिया !
*
बरस-बरस मास-मास ऐही व्त धारि धारि ,
या में सत-भाव ही सुभाव बनि जात रे
काँटे और कंकर जो संकर की साधना में
ऊँची-नीची राहन को प्रसाद बन जात रे !
मानुस को जनम ,सुबुद्ध दई दाता ने
आपुनपो खोइ बढो जात रे कँवरिया !
*
बिसम दाह तिहुँपुर के धारि कंठ नील भयो
धीर-गंभीर चंद्रमौलि वे दिगंबरा !
उनही के चाहे जन्म-मृत्यु के विधान भये
विगत मान आत्मरूप धारे विशंभरा
तिनही के माथ जल डारन के काज हेतु
साधन बनायो तुहै धन्य रे कँवरिया !
*
काँवर उठाये चलि दीन्हों पयादे पांय ,
राह चलत और साथ वारे मिलि जायेंगे ,
और देस-दिसा सों अनेक व्रतवारे साथ
एक ही प्रवाह एक धारा बन जायेंगे ,
ॐबम्भोले नाद गगन गुँजाय रहे ,
एक रूप -प्राण ह्वै जात हैं कँवरिया !
*

गुरुवार, 15 अक्तूबर 2009

नचारी-तोरी सारी पोल मैं तो खोलिहौं -

संकर को पोटि के पियाय दियो घोर विष
असुरन को छल से छकाय दई वारुणी
मिलि-बाँटि देवन सों आप सुधा पान कियो
मणि सै लीन्हीं अरु लक्ष्मि मन-भावनी
*
तेरो ही प्रताप सारे खारे समुन्दर भे
तेरी इहै बान तू सबै का नचावत है
आप छीर -सागर में आँख मूँद सोय जात
लच्छिमी से आपुने चरन पलुटावत है
*
नारद सो भक्त ताकेी छाती पे मूँग दरी
सभा माँझ बानर को रूप दे पठाय के
उचक-उचक रह्यो मोहिनी बरैगी मोंहिं
बापुरो खिस्यायो तोसों सबै विधि हार के
*
अब सो बिगार मेरो कर्यो ना हे रमापति ,
तोरी सारी पोल नाहिं खोलिहौं बखान के
ढरे रहो मो पे नहीं चुप्पै रहौंगी नहिं
खरी-खरी बात बरनौंगी जानि-जानि कै
*
कोऊ उपाओ मेरे काज सुलटाय देओ
स्वारथ न मेरो ,सामर्थ तेरो ही दियौ
ऐसो न होय तो से वीनती है मोर ,
कहूँ धरो रह जाय मेरो सारो करो-धरो!
*
तोरा विसवास तो अब तब ही करौंगी
जब देख लिहौं के तू मेरे संग ठाड़ो आय के ,
चोर रे कन्हैया,चाल खेलत जनम बीत्यो ,
करौंगी सिकायत उहाँ जसुमति से जाय के!
***

एक नचारी- मैना भइ बियाकुल

मैना भइ बियाकुल कइस मोरी बिटिया !
सुनि-सुनि चरचा थिर न रहत जिया !
पति भीख माँगे , अरु डमरु बजाबै ,
कइस परबतिया होई कहि पछितावै 1
*
कइस करत होई बउरे की घरनिया
एक पूत छै मुख दूजा लंबोदरिया !
छुट्टा-छड़ा नारद ओहि का भरमायो
तोडिहौ तँबूरा , जा खन सामैं आयो !
*
बूढ बिधाता ,जाय खींचौं वाकी दाढ़ी,
कौन जनम की दुसमनाई जौन काढ़ी !
बसहा सँग सिंह , नाग मूसा मयूरा,
कइस बिचित्तर ऊ कुनबा पूरा !
*
निकलीं महतारी हाथ पकरि लै आवौं
खरे-खरे बोल जाय हर को सुनावौं !
पति समुझाय रहे जनि विकल होहु,
जाय केआपुहि देखि किन लेहू !
*
भेस बदल गइलीं बिटिया घर माई ,
द्वार खड़ी देखे कइस प्रभुताई !
रिधि-सिधि वधू सेवें माथे पल्ला धर,
नंग भिखारी बनि बैठ्यो जगदीसुर !
*
लाभ-सुभ पौत्र मचलें खेलैं वा अँगना ,
देखि के जाहि सिहावैं सुर-अँगना
जा घर में घरनी भईं अन्नपुरना ,
सारे विरोध सम कीन्हें समपुरना !
*
कीन्ह परनाम मैना भईं सुखारी ,
गिरिजा मोरी दीन्हेउ कुल तारी !
***

बुधवार, 14 अक्तूबर 2009

नचारी - सागरकन्या

सागर की कन्या विष बंधु तेहि नाते सों,
ताही सों बहिनी है रंभा अरु वारुणी,
वाके पिये होत मद, इह का पाये ही होत
कितै गुनी अधिक इह मद-संचारिणी !
*
टिकै कहूँ नाहीं ,कभै इहाँ, कभै उहाँ ,
इह के मन की तरंग, जौन भावे सो करति हैं !
पति कइस कहे कुछू , बस्यो ससुरारै माहिं,
छीर-सिन्धु माँहिं आँख मूँदि के रहत है !
पुरातन पुरुष की वधू नवेली ,अलबेली अहै
तासों ही ह्वै गईं ई चंचला विहारिणी !
*
जा के रतनारे नयन के कटाच्छ ही ते
झूमि परे सोये हरि जाय शेष शैया पे !
जाके पास रहै ताके धरा पे न परत पाँय .
मत्त हुई जात जन जाके अपनाये ते !
तिहूँ लोक जोहै मुख किरपा हित ,देखे रुख
चाहे दीठ जाकी सदा सुख- संचारिणी !
*
देवि ,कृपा दृष्टि मोंपे सदा ही बनायो ,
हाथ जोरति परति पाँय सीस झुका आपुनो ,
तो सम न लीला मयी मो सम पुकारी कौन
मेरो अपराध सारो तोहे ही ढाँपनो !
का कहौं तोहार गुण , बानी को लाज लगे
मुक्त ह्वै लुटावति, ढरै जो काम दायिनी !
*

अश्वत्थामा-

अश्वत्थामा -
*
जरा सा घी दे दे माई !जरा सा माई दे दे घी !
मारता टीस घाव मेरा !
प्रभू कल्याण करे तेरा ! जरा सा ..
घरनिया निकली घर में से ,
बटोही, घाव हुआ कैसे ?
सबै करनी का फल आही !.. जरा सा
बड़ो ऊँचो-पूरो लरिका ,
किन्तु मुख पीड़ा से मुरझा ,
बात वह समझ नहीं पाई ! जरा सा
खून और पीप रिसा आता ,
बैद को जाकर दिखलाता !
न,इसकी दवा नहीं पाई !जरा सा ..
कहाँ से चोट मिली भइया ?
पुरानी कितनी हे दइया !
देख कर टूट रहा है जी !जरा सा ..
हुआ विचलित देखे से मन ,
कर रहा तू दिन-रात सहन,
किसी को दया नहीं आई ?जरा सा ..
न पूछो माँ, बस दे दो घी ,
शान्त कुछ हो जायेगा जी !
व्याधि का पार नहीं कोई ! जरा सा ..
हथेली घी धर लौट चला ,
देखती घरनी गया चला !
हिया में करुणा भर आई !जरा सा ..
कौन यह और कहाँ रहता
भयानक पीड़ा को सहता !
कोइ तो बतला दे भाई ! जरा सा ..
**
अरे ऊ अश्वत्थामा रहे ,
महाभारत का पापी अहै !
ज्योति-मणि थी मस्तक पाई ! जरा सा
द्रौपदी ने तो जीने दिया ,
किंतु अर्जुन ने दंडित किया !
काट शिरमणि ली ज्योतिमयी ! जरा सा
द्रौपदी के पाँचहु बारे ,
सोवते माँहि मारि डारे !
इहै गति है उस पातक की !जरा सा ..
शाप है ई चिरकाल जिये ,
कोटि बरसों तक ये दुख सहे !
न आये इसको मृत्यु कभी !जरा सा ..
जनावत नहीं नाम अपुनो,
कहीं पहचान न ले कउनो !
व्याधि का अंत कहाँ इहकी !जरा सा ..
अरे अब छिमा करौ ओहिका ,
प्रभो ,करि देउ मुक्त लरिका !
घरनियां ने अस बात कही ! जरा सा
कौन है इहाँ दूध का धुला ,
बड़े ऊँचे -ऊँचन ने छला !
कलपती हुइ है मातु कृपी !जरा सा ..

बालापन की जोरी-

तुम्हरे बालापन की जोरी ,
रुकमिन बूझति सिरी कृष्ण सों कहाँ गोप की छोरी ?'
'उत देखो उत सागर तीरे नील वसन तन गोरी ,
सो बृसभान किसोरी !'
सूरज ग्रहन न्हाय आए तीरथ प्रभास ब्रिजवासी ,
देखत पुरी स्याम सुन्दर की विस्मित भरि भरि आँखी!
'इहै अहीरन करत रही पिय तोर खिलौना चोरी ?'
हँसे कृष्ण ,'हौं झूठ लगावत रह्यो मातु सों खोरी !
एही मिस घर आय राधिका मोसों रार मचावे ।
मैया मोको बरजै ओहि का हथ पकरि बैठावे ।'
उतरि भवन सों चली रुकमिनी ,राधा सों मिलि भेंटी ,
करि मनुहार न्योति आई अपुनो अभिमान समेटी !
महलन की संपदा देखि चकराय जायगी ग्वारी
मणि पाटंबर रानिन के लखि सहमि जाइ ब्रजबारी !
**
ऐते आकुल व्यस्त न देख्यो पुर अरु पौर सँवारन ,
पल-पल नव परबंध करत माधव राधा के कारन ! !
'मणि के दीप जनि धर्यो ,चाँदनी रात ओहि अति भावै ,
तुलसीगंध ,तमाल कदंब दिखे बिन नींद न आवै !
बिदा भेंट ओहिका न समर्पयो मणि,मुकता ,पाटंबर ,
नील-पीत वसनन वनमाला दीज्यो बिना अडंबर !
राधा को गोरस भावत है काँसे केर, कटोरा ,
सोवन की बेला पठवाय दीजियो भरको थोरा !'
**
अंतर में अभिमान, विकलता कहि न सकै मन खोली
निसि पति के पग निरखि रुकमिनी कछु तीखी हुइ बोली ,
'पुरी घुमावत रहे पयादे पाँय ,बिना पग-त्रानन ,
हाय, हाय झुलसाय गये पग ऐते गहरे छालन ?'
'काहे को रुकमिनी ,अरे ,तुम कस अइसो करि पायो ?
ऐत्तो तातो दूध तुहै राधा को जाय पियायो ?
दासी-दास रतन वैभव पटरानी सबै तुम्हारो ,
उहि के अपुनो बच्यो कौन बस एक बाँसुरी वारो !
एही रकत भरे पाँयन ते करिहौं दौरा -दौरी
रनिवासन की जरन कबहूँ जिन जाने भानुकिसोरी !'
**
खिन्न स्याम बरसन भूली बाँसुरिया जाय निकारी,
उपवन में तमाल तरु तर जा बैठेन कुंज-बिहारी /!
बरसन बाद बजी मुरली राधिका चैन सों सोई
आपुन रंग महल में वाही धुन सुनि रुकमिनि रोई !
*
रह-रह सारी रात वेनु-धुन ,रस बरसत स्रवनन में ,
कोउ न जान्यो जगत स्याम निसि काटी कुंज-भवन में !
*****